कंपनी का परिचय | एसजेवीएन लिमिटेड

एसजेवीएनविकास, नवाचार तथा उत्कृष्टता सशक्तिकरण

 

एसजेवीएन लिमिटेड विद्युत मंत्रालय के नियंत्रणाधीन एक शेड्यूल–'' मिनी रत्न श्रेणी- सार्वजनिक क्षेत्र का उपक्रम है जिसकी स्थापना 24 मई,1988 को भारत सरकार तथा हिमाचल प्रदेश सरकार के संयुक्त उपक्रम के रूप में की गई थी एसजेवीएन अब एक सूचीबद्ध कंपनी है जिसमें उसके शेयरहोल्डर पैटर्न के तहत भारत सरकार, हिमाचल प्रदेश सरकार एवं जनता का क्रमशः 59.92% , 26.85% एवं 13.23% का इक्विटी अंशदान शामिल है एसजेवीएन की मौजूदा भुगतान की गई पूंजी तथा अधिकृत शेयर पूंजी क्रमशः 3929.80 करोड़ तथा 7000 करोड़ रूपए है एसजेवीएन की कुल पूंजी दिनांक 31.03.2019 को 11238.78 करोड़ रूपए है

कंपनी ने एकल परियोजना तथा एकल राज्य परिचालन(यथा हिमाचल प्रदेश में भारत का सबसे बड़ा 1500 मेगावाट की नाथपा झाकड़ी जलविद्युत स्टेशन) से अपनी शुरूआत कर कुल 2015 मेगावाट की स्थापित क्षमता की पांच परियोजनाओं की कमीशनिंग कर ली है एसजेवीएन वर्तमान में भारत के पड़ोसी देशों जैसे यथा नेपाल तथा भूटान के अलावा भारत में हिमाचल प्रदेश, उत्तराखण्ड, बिहार, महाराष्ट्र तथा गुजरात में विद्युत परियोजनाओं का निष्पादन कर रहा है

पोर्टफोलियोः

वर्तमान में एसजेवीएन 2015 मेगावाट की स्थापित क्षमता की निम्न परियोजनाओं का परिचालन कर रहा हैः

क्र.सं.

परियोजना

स्‍थापित क्षमता (मेगावाट में)

1

नाथपा झाकड़ी जलविद्युत स्‍टेशन

1500

2

रामपुर जलविद्युत स्‍टेशन

412

3

खिरवीरे पवन विद्युत परियोजना

47.6

4

चरंका सौर पीवी विद्युत संयंत्र

5.6

5

सादला पवन विद्युत परियोजना

50



एसजेवीएन ने पावर ट्रांसमिशन सहित समस्त प्रकार की पारंपरिक तथा गैर पारंपरिक ऊर्जा के स्वरूपों का प्रयोग करते हुए,स्वयं को एक पूर्णरूपेण डायवर्सिफाइड ट्रांसनेशनल विद्युत उपक्रम कंपनी के रूप में विकसित कर,अपने परिक्षेत्र तथा दूरवर्ती लक्ष्यों का विस्तार किया है एसजेवीएन का कुल पोर्टफोलियो 7489 मेगावाट है जिसमें से 2015 मेगावाट प्रचालनाधीन,2880 मेगावाट निर्माणाधीन, 482 मेगावाट पूर्व निर्माणाधीन तथा निवेश अनुमोदनाधीन तथा 2112 मेगावाट सर्वेक्षण तथा अन्वेषण के चरण में है

परियोजना अनुसार विवरण निम्नवत् हैः

क्र.सं.

परियोजना

क्षमता (मेगावाट में)

निर्माणाधीन परियोजनाएं

1

अरुण-3 जलविद्युत परियोजना

900

2

नैटवाड़ मोरी जलविद्युत परियोजना

60

3

खोलोंग्चू जलविद्युत परियोजना

600

4

बक्सर थर्मल विद्युत परियोजना

1320

निर्माण पूर्व तथा निवेश अनुमोदन के तहत परियोजनाएं

1.

लूहरी चरण-I जलविद्युत परियोजना

210

2.

धौलासिद्ध जलविद्युत परियोजना

66

3.

देवसारी जलविद्युत परियोजना

162

4.
जाखोल सांकरी जलविद्युत परियोजना 44

सर्वेक्षण तथा अन्‍वेषण के तहत परियोजनाएं

1

सुन्‍नी बांध जलविद्युत परियोजना

382

2

लूहरी चरण-II जलविद्युत परियोजना

172

3

जंगी थोपान पोवारी जलविद्युत परियोजना

780

 4 बरदंग जल विद्युत परियोजना 138
5
पुर्थी जल विद्युत परियोजना
210
6.
रोली दुगली जल विद्युत परियोजना 430


एसजेवीएन ने पावर ग्रिड, आईएलएंडएफएस तथा नेपाल इलेक्ट्रिसिटी अथॉरिटी के साथ संयुक्‍त उपक्रम- क्रॉस बार्डर पावर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड (सीपीटीसी) में 19.02.2016 को सुरसंद (भारत-नेपाल सीमा) तथा मुजफ्फरपुर के मध्‍य 86 सीकेएम 400 केवी डबल सर्किट इंडो-नेपाल क्रॉस बार्डर पावर ट्रांसमिशन कॉरिडोर को कमीशन किया इसे भारत एवं नेपाल के माननीय प्रधानमंत्रियों द्वारा संयुक्त रूप से 20.02.2016 को दोनों राष्ट्रों को समर्पित किया गया था I उपरोक्त के अलावा, कंपनी भारत-नेपाल सीमा पर इसकी 900 मेगावाट की अरुण-3 परियोजना के लिए 217 कि.मी. की 400 केवी डबल सर्किट एसोसिएटिड ट्रांसमिशन लाईन, अरुण -3 एचईपी पॉट हेड यार्ड से बथनाहा तक के कार्यान्वयन में लगी हुई है।


अधीनस् कंपनियां

  • एसजेवीएन अरुण-3 पावर डेवलपमेंट कंपनी प्रा.लिमिटेड (एसएपीडीसी) –नेपाल में 900 मेगावाट की अरुण-3 परियोजना और संबद्ध पारेषण प्रणाली के कार्यान्‍वयन के लिए नेपाल में स्‍थापित पूर्ण स्‍वामित्‍व वाली अधीनस्‍थ कंपनी I
  • एसजेवीएन थर्मल प्रा. लिमिटेडःबिहार में 1320 मेगावाट की बक्सर ताप विद्युत परियोजना के निष्पादन के लिए स्थापित पूर्ण स्वामित् वाली अधीनस् कंपनी I

संयुक् उपक्रम

  • क्रॉस बार्डर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड(सीपीटीसी)- भारत और नेपाल सीमा पर सुरसंड से मुजफ्फरपुर,  86 किलोमीटर लंबी, 400 केवी डी/सी ट्रांसमिशन लाइन के निर्माण तथा अनुरक्षण के लिए क्रमशः आईईडीसीएल, पावर ग्रिड, एसजेवीएन एवं एनईए के क्रमशः 38%, 26%, 26% और 10% में इक्विटी भागीदारी से युक्‍त एक संयुक्‍त उपक्रम है।
  • खोलोंगचू हाईड्रो एनर्जी लिमिटेडभूटान में 600 मेगावाट की खोलोंगछु हाइड्रो इलेक्ट्रिक प्रोजेक्ट के निष्पादन के लिए 50:50 इक्विटी अंशदान के साथ भूटान के ड्रुक ग्रीन पावर कॉर्पोरेशन के साथ एक संयुक्त उपक्रम है । अवसंरचनात्‍मक संकार्य जैसे परियेाजना के लिए सड़कें पूरी हो चुकी है तथा मुख्य संकार्यों के लिए बिडें आमंत्रित की जा रही है।

वित्तीय निष्पादनः

वित्‍त वर्ष 2018-19 के लिए कंपनी की कुल आय 2908.99 करोड़ रुपए तथा कर पश्‍चात अर्जित लाभ 1364.29 करोड़ रुपए था I  एसजेवीएन ने वित्‍तीय वर्ष 2018-19 के लिए कुल लाभांश 844.91 रुपए (@ 2.15 रुपए प्रति शेयर) अदा किया है हाल ही में, एसजेवीएन ने 2019-20 के लिए 668.07 करोड़ रुपये का अंतरिम लाभांश घोषित किया है।

 

एसजेवीएन-एक मिनी रत् कंपनी

भारत सरकार ने एसजेवीएन लिमिटेड को वर्ष 2008 में प्रतिष्ठित 'मिनी रत्‍नः श्रेणी- I' का दर्जा प्रदान किया था I

एसजेवीएन-शेड्यूल'' कंपनी

सार्वजनिक उद्यम विभाग द्वारा निर्धारित मानकों को पूरा करते हुए, गुणात्म क एवं मात्रात्मिक दोनों मानकों को पूरा करने पर एसजेवीएन को 2008 में शेड्यूल 'ए' पीएसयू के रूप में अपग्रेड किया गया I

Go to Navigation