समाचार विस्तार से | एसजेवीएन लिमिटेड
समाचार

आर्थिक मामलों की केबिनेट समिति (सीसीईए) द्वारा एसजेवीएन के 900 मेगावाट अरुण-III एचईपी का निवेश प्रस्ता)व अनुमोदित

फरवरी 23, 2017

शिमला- 23 फरवरी,2017

 

भारत के माननीय प्रधानमंत्री, श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में आर्थिक मामलों की केबिनेट समिति ने नेपाल में 900 मेगावाट के अरुण-III जलविद्युत परियोजना के लिए निवेश प्रस्‍ताव को अनुमोदित कर दिया है I  रन-ऑफ-द-रिवर की यह परियोजना अरुण नदी पर नेपाल के संखुवासभा जिले में अवस्थित है I  एसजेवीएन के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, श्री रमेश नारायण मिश्र ने अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारियों के साथ माननीय केन्‍द्रीय विद्युत मंत्री, श्री पीयूष गोयल के कार्यालय में जाकर एसजेवीएन की टीम के प्रति अपना विश्‍वास प्रदर्शित करने के लिए माननीय मंत्री महोदय के प्रति अपना आभार प्रकट किया I  

 

एसजेवीएन के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, श्री रमेश नाराण मिश्र ने सूचित किया कि इस परियोजना में 70 मीटर ऊंचे ग्रेविटी  बांध का निर्माण किया जाएगा जिसका पानी 11.74 किलोमीटर हेडरेस टनल (एचआरटी) में डायवर्ट किया जाएगा I  विद्युत गृह में 225 मेगावाट प्रति की 4 वर्टिकल फ्रांसिस जनरेटिंग यूनिट्स हैं, जिससे 900 मेगावाट बिजली उत्‍पादित होगी I  विद्युत स्‍टेशन 90% डिपेंडेबल वर्ष में 4018 मिलियन यूनिट बिजली उत्‍पादित करेगा I

 

श्री मिश्र ने आगे बताया कि यह परियोजना, एसजेवीएन अरुण-III पावर डेवल्‍पमेंट कंपनी (एसएपीडीसी), जो एसजेवीएन की पूर्ण स्‍वामित्‍व वाली एक सब्सिडियरी है, के माध्‍यम से निष्‍पादित की जाएगी I  कंपनी पहले ही नेपाली कंपनी एक्‍ट के अनुसार दिनांक 25.04.2013 को पंजीकृत हो चुकी है I  इस परियोजना की मई,2015 के मूल्‍य स्‍तर पर अनुमानित लागत 5723.72 करोड़ रुपए   है I  परियोजना की पूर्णता अवधि सितंबर,2017 को वित्‍तीय क्‍लोजर की तिथि से 60 माह होगी I

 

एसजेवीएन ने इस परियोजना को अंतर्राष्‍ट्रीय प्रतिस्‍पर्धात्‍मक बोली के माध्‍यम से प्राप्‍त किया था, तथा इस परियोजना के संबंध में बूट (BOOT) आधार पर समझौता ज्ञापन नेपाल सरकार के साथ हस्‍ताक्षरित किया गया है I  परियोजना, निर्माण चरण में लगभग 3000 व्‍यक्तियों के लिए रोजगार उपलब्‍ध करवाएगी I

 

परियोजना डेवल्‍पमेंट एग्रीमेंट (पीडीए) दिनांक 25.11.2014 को हस्‍ताक्षरित हुआ था, जिसके तहत 25 सालों की संपूर्ण छूट अवधि में नेपाल को 21.9% निःशुल्‍क विद्युत उपलब्‍ध कराई जाएगी I  परियोजना से उत्‍पादित सरप्‍लस विद्युत ढालकेबार, नेपाल से मुजफ्फरपुर, भारत को संप्रेषि‍त की जाएगी I
Go to Navigation