समाचार विस्तार से | एसजेवीएन लिमिटेड
समाचार

एसजेवीएन द्वारा 8700 मिलियन यूनिटस विद्युत उत्पा दन के एम ओ यू लक्ष्य को पार करते हुए 9045 मिलियन यूनिटस का उत्पा दन किया गया

अप्रैल 02, 2017

शिमला  2 अप्रैल, 2017

 

एसजेवीएन के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री आर एन मिश्र ने आज बताया कि वितीय वर्ष 2016-17 के लिए निर्धारित 8700 मिलियन यूनिटस के एमओयू लक्ष्‍य को पार करते हुए कंपनी ने अपने तीन विद्युत स्‍टेशनों से 9045 मिलियन यूनिटस विद्युत का उत्‍पादन किया है । 

 

उन्‍होंने बताया कि देश के सबसे बड़े 1500 मेगावाट के नाथपा झाकडी पावर स्‍टेशन द्वारा 7050.62 मिलियन यूनिटस के उत्‍पादन के साथ लक्ष्‍य की 103.5% उपलब्धि प्राप्‍त की गई ।  जबकि डाउनस्‍ट्रीम 412 मेगावाट के रामपुर जल विद्युत स्‍टेशन द्वारा लक्ष्‍य से 110 मिलियन यूनिटस अधिक उत्‍पादन करते हुए कुल 1960.36 मिलियन यूनिटस का उत्‍पादन किया गया ।  एसजेवीएन के महाराष्‍ट्र के अहमदनगर जिले में स्थित 47.6 मेगावाट खिरविरे पवन उर्जा स्‍टेशन द्वारा 34 मिलियन युनिटस विद्युत का उत्‍पादन किया गया । 

 

श्री मिश्र ने कहा कि जल विद्युत उत्‍पादन कंपनी की मूल शक्ति है, कंपनी के इंजिनियर्स जल तथा मशीनों के कुशल प्रबंधन से रिकॉर्डस बनाने में सफल हो रहे हैं ।  चूंकि सर्दी के महीनों में सतलुज नदी में पानी की मात्रा कम होती है , इस तथ्‍य को ध्‍यान में रखते हुए प्रोजेक्‍ट इंजिनियरों द्वारा दोनों जल  विद्युत स्‍टेशनों का वार्षिक रखरखाव रिकॉर्ड समय में पूरा किया जा चुका है ।  दोनों जल विद्युत स्‍टेशनों की मशीने आने वाले गर्मी के मौसम में पूर्ण क्षमता पर कार्य करने हेतु पूरी तरह से तैयार है । 

 

उन्‍होंने आगे कहा कि एसजेवीएन लिमिटेड ने वर्ष 2016-17 के शानदार वित्‍तीय निष्‍पादन के आधार पर अपने शेयरधारकों को अब तक का सबसे अधिक 930.74 करोड़ रुपए (2.25 रुपए प्रति शेयर की दर से) का अंतरिम लाभांश दिया है I  एसजेवीएन में 64.46%  की इक्विटी धारक भारत सरकार ने अंतरिम लाभांश के रूप में 599.99 करोड़ रुपए प्राप्‍त किए हैं ,  जबकि 25.51%  इक्विटी धारक हिमाचल प्रदेश सरकार को 237.38 करोड़ रुपए का अंतरिम लाभांश अदा किया गया है I  पब्लिक शेयरधारिता जो कि 10.03% को 93.37 करोड़ रुपए अदा किए गए  हैं I 

 

उन्‍होंने बताया कि वित्‍तीय वर्ष 2016-17  के दौरान गुजरात में 5 मेगावाट की चरंका सौर उर्जा परियोजना की कमिशिनंग के साथ एसजेवीएन ने सौर उर्जा के क्षेत्र में भी सफलतापूर्वक प्रवेश कर लिया है ।  श्री मिश्रा ने एसजेवीएन की सफलता का श्रेय कंपनी के सभी कर्मचारियों की कड़ी मेहनत और प्रयासों को दिया ।
Go to Navigation