समाचार विस्तार से | एसजेवीएन लिमिटेड
समाचार

एसजेवीएन लि. द्वारा अरुण-3 जलविद्युत परियोजना, नेपाल में राहत कार्य सफलतापूर्वक संपन्नग किया गया

जून 18, 2018

दिनांक 15 जून,2018 को रात को लगभग 8:30 बजे एसजेवीएन लिमिटेड की पूर्ण स्वारमित्वच वाली कंपनी एसएपीडीसी द्वारा नेपाल में निर्मित की जा रही अरुण-3 जलविद्युत परियोजना के एडिट- I को जाने वाली एप्रोच सड़क पर भू-स्खमलन की एक बड़ी घटना घटित हुई I घटना की तिथि तक एडिट- I की 27 मी.लंबाई तक खुदाई हो चुकी है I इस भू-स्खएलन के कारण सुरंग का पोर्टल बड़ी-बड़ी चट्टानों और मलबे से अवरुद्ध हो गया है I जय प्रकाश एसोसिएट्स लि.कपंनी के चार कामगार जो फेस पर बुमरों के साथ ड्रिलिंग के काम में लगे हुए थे, सुरंग के अंदर फंस गए I भारी मात्रा में मलबा आने के कारण एडिट- I के एप्रोच सड़क की ओर जाने वाला नूम खोला (एक छोटी नदी) के ऊपर पुल का दायां जोड़ ढह गया I पिछले कुछ दिनों से लगातार हो रही भारी बारीश के कारण बड़ी मात्रा में भू-स्ख लन हुए हैं I हालांकि भू-स्ख लन अभी भी हो रहे हैं, इसके बावजूद एसजेवीएन ने आधे-घंटे के अंदर राहत कार्य शुरू कर दिए I तब सुरंग के अंदर फंसे कामगारों से संपर्क स्थाेपित नहीं हो सका I यह पता नहीं लगा सका कि कितनी मात्रा में चट्टानें और मलबा सुरंग के अंदर घुस गया है और फंसे हुए कामगार जीवित हैं या नहीं I 15 जून की रात को लगातार बारिश होती रही जिसके कारण राहत कार्यों में अड़चन आई I

16 जून,2018 को भी बीच-बीच में बारिश होती रही लेकिन राहत कार्य पूरे जोर से चलते रहे जिसके अंतर्गत जैक हैमर और अन्यक मशीनरी के साथ तीन एक्स-केवेटर, दो ब्रेकर और एक कंप्रेशर काम में लगाए गए I 16 जून की शाम को लगभग 5:30 बजे नूम खोला में बाढ़ आ गई जिसके कारण राहत कार्य रोकने पड़े I हालांकि नूम खोला में जब बाढ़ का स्तयर घटा तो राहत कार्य दोबारा शुरू कर दिए गए I लगभग 39 घंटे के निरंतर राहत कार्य के बाद 17 जून को सुबह 11:00 बजे ब्रेकर द्वारा एक छेद करने के जरिए चार कामगारों को सुरक्षित ढंग से बचा लिया गया I तदुपरांत डॉक्टतरों ने इन चार कामगारों की मेडिकल जांच की और उन्हें स्वरस्थि एवं फिट पाया I

इस संबंध में यह उल्लेंखनीय है कि पूरे राहत कार्यों के दौरान स्था नीय प्राथमिक स्वावस्य्ात केन्द्रम नूम की एक डॉक्टेर और अन्यं पैरामेडिकल स्टॉेफ से युक्तह टीम को तैयार रखा गया था I किसी भी आपात स्थिति‍ का सामना करने के लिए काठमांडू में एक हेलिकॉप्टेर भी बिल्कुहल तैयार रखा गया था I स्था नीय लोगों के सहयोग और समर्थन के साथ एसजेवीएन की कामयाब एवं साहसपूर्ण कोशिशों से सभी चार कामगारों को सुरक्षित ढंग से बचा लिया गया I
Go to Navigation