प्रेस विस्तार
प्रेस विज्ञप्ति

एसजेवीएन द्वारा नगर राजभाषा कार्यान्व्यन समिति, शिमला (कार्यालय-2) की बैठक का आयोजन

जुलाई 25, 2017

एसजेवीएन द्वारा नगर राजभाषा कार्यान्व्यन समिति, शिमला (कार्यालय-2) की बैठक का आयोजन

केंद्रीय सरकारी कार्यालयों, उपक्रमों एवं बैंकों में राजभाषा हिन्‍दी के प्रयोग को बढ़ाने के उद्देश्‍य से भारत सरकार द्वारा एसजेवीएन लिमिटेड के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक की अध्‍यक्षता में गठित नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति, शिमला (कार्यालय-2) की बैठक का आयोजन दिनांक 24 जुलाई,2017 को एसजेवीएन लिमिटेड, शक्ति सदन, कारपोरेट कार्यालय परिसर, शनान, शिमला में किया गया ।  बैठक की अध्‍यक्षता नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति, शिमला (कार्यालय-2) के अध्‍यक्ष, श्री रमेश नारायण मिश्र, अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, एसजेवीएन लिमिटेड ने की ।  इस अवसर पर निगम के निदेशक (मानव संसाधन), श्री नन्‍द लाल शर्मा सहित मुख्‍य महाप्रबंधक (मानव संसाधन) श्री अमित कुमार मुखर्जी, अपर महाप्रबंधक (राजभाषा), डॉ.रजनीकान्‍त पाण्‍डेय तथा राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार की ओर से सहायक निदेशक (कार्यान्‍वयन), श्री नरेन्‍द्र सिंह मेहरा भी उपस्थित थे।

 

समिति  की  बैठक में शिमला स्थित केंद्रीय सरकारी कार्यालयों, उपक्रमों तथा बैंकों से  48 वरिष्‍ठ अधिकारियों ने भाग लिया।

 

बैठक में केंद्रीय सरकारी कार्यालयों में हिंदी के प्रयोग की समीक्षा की गई तथा भारत सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्‍यों को प्राप्‍त करने की दिशा में विचार-विमर्श करते हुए केंद्रीय सरकारी कार्यालयों, उपक्रमों एवं बैंकों के कार्मिकों के लिए राजभाषा सेमिनार/संगोष्ठियों का आयोजन किए जाने संबंधी निर्णय लिया गया I समिति द्वारा विभिन्‍न हिंदी प्रतियोगिताओं का आयोजन किए जाने पर भी सहमति बनी ।   

 

बैठक में उपस्थित सदस्‍यों का स्‍वागत करते हुए राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, भारत सरकार के सहायक निदेशक(कार्यान्‍वयन),         श्री नरेन्‍द्र सिंह मेहरा ने कहा कि प्रत्‍येक नगर में नगर राजभाषाकार्यान्‍वयन समिति का गठन किया गया है तथा इसकी बैठकें नियमित आधार पर आयोजित की जाती है, इन बैठकों में नराकास के कार्यालय प्रमुख बैठक में भाग लेते हैं  और राजभाषा की प्रगति की समीक्षा की जाती है तथा इन बैठकों में लिए गए निर्णयों पर सभी कार्यालयों द्वारा इसका कार्यान्‍वयन सुनिश्चित किया जाता है I 

 

इस नराकास समिति का कार्य सराहनीय है I  यह नराकास गठन के आरंभ से ही  समिति सक्रिय रूप से कार्य कर रही है I  जिन कार्यालयों की रिपोर्टें प्राप्‍त हुई है, उनके कार्य की प्रगति बहुत ही अच्‍छी है, और जिन्‍होंने रिपोर्टें नहीं भेजी है, उन कार्यालयों से अनुरोध है कि वे बैठक से पहले अपनी रिपोर्टें नराकास कार्यालय के साथ राजभाषा विभाग को भी ऑनलाईन माध्‍यम से प्रेषित करें I  अधिकतर कार्यालय ऑनलाईन के बजाए सीधे हार्ड कॉपी के साथ राजभाषा विभाग को रिपोर्ट प्रेषित कर रहे हैं I इसके अलावा, कार्यालयों के प्रमुखों को अपनी उपस्थिति भी इस बैठक में शत –प्रतिशत सुनिश्चित करनी चाहिए I

 

 निदेशक (मानव संसाधन), श्री नन्‍द लाल शर्मा ने इस अवसर पर कहा कि राजभाषा कार्यान्‍वयन के क्षेत्र में सदस्‍य कार्यालयों द्वारा सराहनीय प्रयास किए गए हैं  I  तथापि, जहां कमी है, वहां अधिक प्रयास किए जाने की आवश्‍यकता है I 

 

बैठक की  अध्‍यक्षता  करते  हुए निगम के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशकश्री रमेश नारायण मिश्र ने कहा  कि इस नराकास, शिमला कार्यालय से जुड़े सभी सदस्‍य कार्यालयों ने हिन्‍दी के कार्य में प्रगति की है I  उनकी अच्‍छी उपलब्धियां रही है I  साथ ही साथ सबसे बड़ी बात यह है कि आपकी दृढ़ इच्‍छाशक्त्‍िा, हिन्‍दी के प्रति प्रेम तथा आदर होने के कारण हिन्‍दी में कार्य को बढ़ावा मिला है I  ऐसा नहीं है कि केवल हिन्‍दी को ऊपर से थोप देने से हिन्‍दी आगे बढ़ी है,  आपकी अंतर्आत्‍मा से उत्‍पन्‍न लगाव के कारण ही आज हम राजभाषा कार्यान्‍वयन में प्रगति कर रहे हैं I   राजभाषा हिन्‍दी पर हम सबको गर्व है

 

जहां तक हिन्‍दी में काम करने की बात है देखा गया है कि भारत वर्ष में ज्‍यादातर जगह पर बिना हिन्‍दी के काम नहीं चल पाता है I    आज के समय में भारत में हिन्‍दी को काफी सम्‍मान मिला है, हम पहले किसी बैठक में भाग लेने जाते थे, तो वहां अंग्रेजी का बोलबाला होता था, परंतु आज ज्‍यादातर  बैठकों में वार्तालाप हिन्‍दी में संपन्‍न हो रहा है I  जहां तक तकनीकी विषयों की बात है, जब हम लिखना चाहेंगे तो हमें उस भाषा के शब्‍द मिल जाएंगे I  अंग्रेजी में ऐसा क्‍या है जो हमें हिन्‍दी में नहीं मिल सकता ?  हम किसी भी भाषा से शब्‍दों को ले सकते हैं I  विधि में जब अन्‍य भाषाओं के शब्‍दों को लेते हैं तो हिन्‍दी में भी हम अन्‍य भाषाओं के शब्‍दों को ले सकते   हैं I  वेबसाईट पर पत्रि‍काओं तथा सामग्रियों को डालें ताकि सभी तक इसकी पहुंच संभव हो I  डिजीटिलाईजेशन के उपयोग से भी हम हिन्‍दी को और बढ़ावा दे सकते हैं I   हिन्‍दी में काम करने के बहुत सारे आयाम है I   इसका उपयोग करें और हिन्‍दी को अनुवाद की भाषा न बनाएं I   जो आप सोचते हैं, उसे उसी प्रकार  ढालने लिखने की कोशिश करें I  तकनीकी पुस्‍तकें भी हिन्दी में लिखने के प्रयास करेंI

 

उन्‍होंने आगे  कहा  कि सरल हिन्‍दी में अधिक से अधिक सरकारी कार्य करने पर बल दिया जाना चाहिए।  सभी सदस्‍य कार्यालय राजभाषा विभाग द्वारा निर्धारित लक्ष्‍यों को ध्‍यान में रखते हुए  अपने स्‍तर पर वार्षिक कार्य योजना बनाकर लक्ष्‍य प्राप्‍त करने का प्रयास  करें  I   उन्‍होंने आगे कहा कि सभी देशों के लोग अपनी-अपनी भाषा में काम करते हैं और उन देशों ने अपने यहां प्रगति की है I   हमारे माननीय प्रधानमंत्री, श्री नरेन्‍द्र मोदी जी जहां भी जाते हैं, हिन्‍दी में ही बात करते हैं I  अधिकांश भाषण भी हिन्‍दी में ही देते हैं I   अनुवाद किए गए शब्‍दों से नहीं, बल्कि सरल हिन्‍दी शब्‍दों के प्रयोग से हम हिन्‍दी भाषा को बढ़ावा देने के प्रयास करें I

 

बैठक अपर महाप्रबंधक (राजभाषा) के धन्‍यवाद ज्ञापन के साथ संपन्‍न हुई I

Go to Navigation