प्रेस विस्तार
प्रेस विज्ञप्ति

एसजेवीएन फाऊंडेशन ने किन्‍नौर जिले के जंगी गांव में एक मोबाईल मेडिकल यूनिट तैनात करने के लिए हेल्‍पएज इंडिया के साथ एमओयू किया

फरवरी 23, 2019

एसजेवीएन फाऊंडेशन ने किन्‍नौर जिले के जंगी गांव में एक मोबाईल मेडिकल यूनिट तैनात करने के लिए हेल्‍पएज इंडिया के साथ एमओयू किया

शिमला – 24 फरवरी, 2019

 

 

एसजेवीएन फाऊंडेशन ने किन्‍नौर जिले के जंगी गांव में एक मोबाईल मेडिकल यूनिट तैनात करने के लिए हेल्‍पएज इंडिया के साथ एमओयू किया I   इस एमओयू पर निदेशक (वित्‍त) श्री ए.एस.बिन्‍द्रा की गरिमामयी उपस्थिति में एसजेवीएन के मुख्‍य महाप्रबंधक (मानव संसाधन) श्री डी.पी.कौशल तथा रिसोर्स मोबिलाईजेशन की कंट्रीहेड श्रीमती मधु मदान ने नई दिल्‍ली में हस्‍ताक्षर किए I

यहां यह उल्‍लेखनीय है कि एसजेवीएन हिमाचल प्रदेश, उत्‍तराखंड, बिहार तथा महाराष्‍ट्र राज्‍यों में पहले ही 14 मोबाईल मेडिकल यूनिटों (एमएमयू) के जरिए ''सतलुज संजीवनी सेवा''  परियोजना के झंडे तले ग्रामीण लोगों को मुफ्त स्‍वास्‍थ्‍य परामर्श और दवाईयां उपलब्‍ध करवा रहा है I  यह एमएमयू अर्हता प्राप्‍त मेडिकल स्‍टॉफ (एमबीबीएस डॉक्‍टर, फार्मासिस्‍ट, सामाजिक सुरक्षा अधिकारी) तथा मूलभूत नैदानिक परीक्षण उपकरणों से लैस है I  यह नई एमएमयू हिमाचल प्रदेश के जनजातीय जिले में तैनात की जाएगी और स्‍थानीय लोगों को मुफ्त स्‍वास्‍थ्‍य सुविधाएं देगी I

एसजेवीएन लंबे समय से अपने प्रचालन के ईर्द-गिर्द के क्षेत्रों में सीएसआर गतिविधियां अमल में लाता आ रहा है और हितधारकों के जीवन की गुणवत्‍ता में सुधार लाकर भारी योगदान दे रहा है I  यहां यह उल्‍लेखनीय है कि एसजेवीएन अपनी सीएसआर एवं सततशीलता परियोजनाएं छह क्षेत्रों नामतः स्‍वास्‍थ्‍य एवं स्‍वच्‍छता, शिक्षा एवं दक्षता विकास, सतशील विकास, अवसंरचना एवं सामुदायिक विकास, कुदरती आपदाओं के दौरान मदद, संस्‍कृति, विरासत एवं खेलों को बढ़ावा देने में संचालित करता है I

स्‍वास्‍थ्‍य के क्षेत्र में एसजेवीएन हिमाचल प्रदेश, उत्‍तराखंड, बिहार और महाराष्‍ट्र में 14 मोबाईल मेडिकल यूनिटें चला रहा है जिससे पहले ही 6 लाख से ज्‍यादा रोगी लाभान्वित हो चुके हैं I  इसके अलावा विशेषीकृत स्‍वास्‍थ्‍य कैंप लगाने, आयुर्वेदिक स्‍वास्‍थ्‍य जागरूकता कार्यक्रम चलाने, एकीकृत मांसपेशीय दुर्विकार संस्‍थान के निर्माणार्थ वित्‍तीय मदद, अलीमकों के जरिए दिव्‍यांगजन को मदद तथा सहायक उपकरण उपलब्‍ध कराने की परियोजनाओं से समाज के वंचित वर्ग भारी संख्‍या में लाभान्वित हो रहे हैं I

Go to Navigation