प्रेस विस्तार
प्रेस विज्ञप्ति

एसजेवीएन ने वित्तीरय वर्ष 2018-19 के लिए 589.47 करोड़ रूपए का अंतरिम लाभांश घोषित किया तथा भारत सरकार को 368.07 करोड़ रूपए अंतरिम लाभांश के रूप में अदा किए

फरवरी 28, 2019

एसजेवीएन ने वित्तीरय वर्ष 2018-19 के लिए 589.47 करोड़ रूपए का अंतरिम लाभांश घोषित किया तथा भारत सरकार को 368.07 करोड़ रूपए अंतरिम लाभांश के रूप में अदा किए

शिमला: 28 फरवरी,2019

 

सार्वजनिक क्षेत्र के एसजेवीएन लिमिटेड ने वर्ष 2018-19 के वित्‍तीय निष्‍पादन के आधार पर इसके शेयरधारकों को 589.47 करोड़ रूपए (1.50 रूपए प्रति शेयर की दर से ) का अंतरिम लाभांश घोषित किया गया है एसजेवीएन ने कंपनी की 62.44% इक्विटी धारक भारत सरकार को 368.07 करोड़ रूपए का अंतरिम लाभांश अदा किया है

 

एसजेवीएन लिमिटेड के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, श्री नन्‍द लाल शर्मा द्वारा नई दिल्‍ली में केन्‍द्रीय विद्युत राज्‍य मंत्री माननीय श्री आर.के. सिंह को लाभांश का चेक भेंट किया गया लाभांश चेक श्री एस.एन.साही, अतिरिक्‍त सचिव तथा श्री विशाल पाल सिंह, उप सचिव(हाइड्रो-II) तथा विद्युत मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारियों की उपस्थिति में भेंट किया गया इस अवसर पर श्री ए.एस. बिंद्रा , निदेशक(वित्‍त) , श्री कंवर सिंह,  निदेशक(सिविल) तथा एसजेवीएन के वरिष्‍ठ अधिकारी भी उपस्थित थे

 

माननीय केन्‍द्रीय विद्युत राज्‍यमंत्री को चेक भेंट करते हुए श्री नन्‍द लाल शर्मा ने माननीय मंत्री को बताया कि कंपनी इसके शेयरधारकों को लाभकारी वापसी भुगतान कर रही है मुख्‍य शेयरधारक भारत सरकार को 2453.78 करोड़ रूपए के निवेश पर पहले ही 4257.47 करोड़ रूपए का कुल लाभांश अदा किया जा चुका है वर्तमान में भारत सरकार कंपनी की 62.44% की शेयरधारक है जबकि हिमाचल प्रदेश सरकार के पास 26.85% तथा पब्लिक के पास 10.71%  शेयर हैं

 

इस अवसर पर, माननीय मंत्री को श्री नन्‍द लाल शर्मा ने बताया कि 2023 तक 5000 मेगावाट कंपनी, 2030 तक 12000 मेगावाट तथा 2040 तक 25000 मेगावाट की कंपनी बनाने के महत्‍वाकांक्षी लक्ष्‍यों को प्राप्‍त करने के लिए इक्विटी भाग में अंशदानार्थ एसजेवीएन के पास पर्याप्‍त आरक्षित निधि है उन्‍होंने आगे बताया कि इन लक्ष्‍यों को प्राप्‍त करने के लिए एसजेवीएन के पास तकनीकी विशेषज्ञता तथा वित्‍तीय दोनों आधार हैं

 

हिमाचल प्रदेश में परियोजनाएं निष्‍पादित करने के अलावा एसजेवीएन वर्तमान में नेपाल, भूटान, उत्‍तराखंड, बिहार तथा गुजरात में परियोजनाएं निष्‍पादित कर रहा है इन परियोजनाओं से संचयी विद्युत उत्‍पादन क्षमता 4798 मेगावाट होगी वर्तमान में 2000 मेगावाट से अधिक विद्युत उत्‍पादन करने वाले एसजेवीएन ने पवन विद्युत , ताप विद्युत तथा विद्युत पारेषण के क्षेत्र में पहले ही विविधीकरण कर लिया है

Go to Navigation