प्रेस विस्तार
प्रेस विज्ञप्ति

माननीय केन्‍द्रीय गृह मंत्री, श्री अमित शाह ने 210 मेगावाट की लूहरी चरण-I तथा 66 मेगावाट की धौलासिद्ध जलविद्युत परियोजना के लिए ग्राउंड ब्रेकिंग समारोह की अध्यक्षता की

दिसम्बर 27, 2019

माननीय केन्‍द्रीय गृह मंत्री, श्री अमित शाह ने 210 मेगावाट की लूहरी चरण-I तथा 66 मेगावाट की धौलासिद्ध जलविद्युत परियोजना के लिए ग्राउंड ब्रेकिंग समारोह की अध्यक्षता की

शिमला : 27 दिसंबर, 2019

माननीय केन्‍द्रीय गृह मंत्री, श्री अमित शाह ने शिमला में हिमाचल प्रदेश के माननीय राज्‍यपाल श्री बंडारू दत्‍ताञेय, माननीय मुख्यमंत्री, श्री जय राम ठाकुर की गरिमामयी उपस्थिति में 210 मेगावाट की लूहरी चरण- जलविद्युत परियोजना तथा 66 मेगावाट की धौलासिद्ध जलविद्युत परियोजना के लिए ग्राउंड ब्रेकिंग समारोह की अध्यक्षता की । इस अवसर पर माननीय केन्‍द्रीय राज्‍य मंञी वित्‍त श्री अनुराग ठाकुर, माननीय राज्‍य सभा सदस्‍य श्री जे पी नड़्डा, माननीय शिक्षा मंञी हिमाचल प्रदेश श्री सुरेश भारद्वाज, माननीय उद्योग मंञी हिमाचल प्रदेश श्री बिक्रम सिंह तथा अन्‍य गण मान्‍य भी उपस्थित थे। हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा हिमाचल राइजिंग शिखर सम्मेलन के दौरान किए गए 10,000 करोड़ रुपए के समझौता ज्ञापनों का तेजी से कार्यान्वयन करवाने हेतु फ़र्स्ट ग्राउंड ब्रेकिंग समारोह का आयोजन किया गया।

अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, एसजेवीएन, श्री नंदलाल शर्मा ने माननीय केन्‍द्रीय गृह मंत्री को परियोजनाओं के मॉडल को दर्शाते हुए कहा कि परियोजनाएँ पूरे राज्य के समग्र विकास में महत्वपूर्ण योगदान देंगी। 210 मेगावाट की लूहरी चरण- जलविद्युत परियोजना कुल्लू और शिमला जिलों में सतलुज नदी पर स्थित है, जबकि 66 मेगावाट की धौलासिद्ध जलविद्युत परियोजना हमीरपुर तथा कांगड़ा जिलों में ब्यास नदी पर स्थित है।

210 मेगावाट की लूहरी चरण-। जलविद्युत परियोजना के पूरा होने पर सालाना 758 मिलियन यूनिट विद्युत का उत्‍पादन करेगी, जबकि 66 मेगावाट की धौलासिद्ध जलविद्युत परियोजना की सालाना 247 मिलियन यूनिट विद्युत उत्‍पादन करने की क्षमता है। इन दोनों परियोजनाओं के निर्माण से लगभग 2400 करोड़ का निवेश होगा तथा लगभग 3500 व्यक्तियों को रोजगार मिलेगा।

माननीय केन्‍द्रीय गृह मंत्री, श्री अमित शाह ने भारतीय विद्युत क्षेञ तथा हिमाचल के विकास में एसजेवीएन के योगदान की सराहना की ।

श्री शर्मा ने आगे कहा कि राइजिंग हिमाचल ग्लोबल समिट के दौरान, एसजेवीएन ने आठ जलविद्युत परियोजनाओं के लिए समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए । ये परियोजनाएं हिमाचल प्रदेश में सतलुज, ब्यास तथा चिनाब नदी बेसिनों में स्थित हैं। इन परियोजनाओं के निष्‍पादन हेतु 24000 करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा तथा इससे 11950 व्यक्तियों के लिए रोजगार के अवसर उत्‍पन्‍न होंगे

इस अवसर पर एसजेवीएन के निदेशक विद्युत श्री आर के बंसल, निदेशक कार्मिक श्रीमती गीता कपूर निगम के अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारियों सहित उपस्थित थे

एसजेवीएन ने नवीकरणीय ऊर्जा, पावर ट्रांसमिशन और ताप विद्युत के क्षेत्र में भी प्रवेश किया है। एसजेवीएन ने आंतरिक विकास लक्ष्य की परिकल्पना की है तथा वर्ष 2023 तक 5000 मेगावाट, वर्ष 2030 तक 12000 मेगावाट एव वर्ष 2040 तक 25000 मेगावाट की स्थापित क्षमता हासिल करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है।

--------------------------------------------------------------------


Go to Navigation