एसजेवीएन के बारे में

Banner
Banner
Banner

एसजेवीएन लिमिटेड में आपका स्वागत है

अध्यक्षीय कॉर्नर

Banner

श्री एन. एल. शर्मा

अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक

नवीनतम अपडेट

  • कैबिनेट द्वारा एसजेवीएन की 210 मेगावाट लूहरी चरण-। जलविद्युत परियोजना

    ReadMore
  • एसजेवीएन में राष्ट्रीय एकता दिवस का आयोजन

    ReadMore
  • एसजेवीएन में सतर्कता जागरूकता सप्‍ताह का आयोजन

    ReadMore
  • सतर्कता जागरूकता सप्ताह पर माननीय सीएमडी का संदेश

    ReadMore
  • सतर्कता जागरूकता सप्ताह पर माननीय मुख्य सतर्कता अधिकारी का संदेश

    ReadMore
  • एसजेवीएन के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, श्री नंद लाल शर्मा ने 1320 मेग

    ReadMore
  • श्री नंद लाल शर्मा ने “जन आंदोलन अभियान” के तहत कर्मचारियों को कोविड-1

    ReadMore
  • भारत सरकार ने 66 मेगावाट धौलासिद्ध जलविद्युत परियेाजना की निवेश के प्र

    ReadMore
  • एसजेवीएन ने विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ता

    ReadMore
  • श्री नंद लाल शर्मा ने 60 मेगावाट नैटवाड़ मोरी जलविद्युत परियोजना की

    ReadMore
  • एसजेवीएन ने धोलेरा सोलर पार्क, गुजरात में 100 मेगावाट की सौर ऊर्जा परि

    ReadMore
  • एसजेवीएन कर्मचारियों ने एक दिन के वेतन के योगदान द्वारा 59 लाख रुपए की

    ReadMore
  • श्री सुशील कुमार शर्मा ने एसजेवीएन के नए निदेशक (विद्युत) के रूप में क

    ReadMore
  • एसजेवीएन कर्मचारियों ने अपने वेतन से नगर निगम शिमला के 1250 स्वच्छता क

    ReadMore
  • TReDS प्लेटफार्मों पर एसजेवीएन लिमिटेड की ऑनबोर्डिंग, अधिक जानकारी क ल

    ReadMore
  • पावर के विनियमन के लिए जम्मू और कश्मीर पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (JKPCL)

    ReadMore

Content Not Available

हमारा व्यापार

Banner

ताप विद्युत

देश की जलविद्युत क्षमता के दोहन में 25 वर्षों का अनुभव प्राप्‍त करने के पश्‍चात एसजेवीएन ने ताप विद्युत उत्‍पादन में पर्दापण किया है।  बिहार में 1320 मेगावाट क्षमता का बक्‍सर ताप विद्युत संयंत्र निष्‍पादन के लिए ली गई पहली परियोजना है।  एक पूर्ण स्‍वामित्‍व वाली अधीनस्‍थ कंपनी स्‍पेशल पर्पस व्‍हीकल (एसपीवी) कंपनी बक्‍सर बिजली कंपनी प्रा. लिमिटेड को इस उद्देश्‍य के लिए स्‍थापित किया गया है।  यह संयंत्र बक्‍सर जिले में चौसा गांव

Banner

हाइड्रो पावर

एसजेवीएन ने एकल जलविद्युत परियोजना कंपनी से प्रारंभ करके आज हिमाचल प्रदेश उत्‍तराखण्‍ड तथा पड़ोसी देशों नेपाल और भूटान में जलविद्युत परियोजनाओं के कार्यान्‍वयन में प्रवेश किया है।एसजेवीएन देश के सबसे बड़े 1500 मेगावाट के नाथपा झाकड़ी ज‍लविद्युत स्‍टेशन का सफलतापूर्वक प्रचालन कर रहा है तथा भूमिगत टरबाईनों के हिस्‍सों में सिल्‍ट क्षरण की समस्‍या से निपटने के पश्‍चात वर्ष-दर-वर्ष विद्युत उत्‍पादन और रखरखाव में नए बेंचमार्क स्‍थापित कर रहा है।

Banner

पवन विद्युत

एसजेवीएन ने महाराष्‍ट्र में इसकी पहली परियोजना की कमीशनिंग के साथ पवन विद्युत उत्‍पादन में विविधीकरण किया है।  महाराष्‍ट्र के अहमदनगर जिले में खिरवीरे तथा कोंभालने गांव में 47.6 मेगावाट की खिरवीरे पवन विद्युत परियोजना स्‍थापित की गई है।  सभी 56 पवन विद्युत टरबाईनों से 85.65 मिलियन यूनिट वार्षिक अक्षय ऊर्जा उत्‍पादित होगी।  प्रत्‍येक पवन विद्युत टरबाईन की 850 केवी ऊर्जा उत्‍पादित करने की क्षमता है। इन पवन ऊर्जा फार्म से उत्‍पादित विद्युत को 132 केवी पारेषण लाईन

Banner

सौर ऊर्जा

एसजेवीएन ने गुजरात के चारंका सौर पार्क में अपनी पहली परियोजना की कमीशनिंग के साथ सौर ऊर्जा उत्‍पादन में विविधीकरण किया है I  5 मेगावाट की चारंका सौर विद्युत परियोजना को दिनांक 31.03.2017 को कमीशन किया गया है I

Banner

विद्युत पारेषण

एक विद्युत उत्‍पादन कंपनी से एसजेवीएन ने अन्‍य कंपनियों के साथ भागीदारी में क्रॉस बार्डर इंडो-नेपाल पारेषण लाईन डालने के साथ विद्युत पारेषण के क्षेत्र में भी प्रवेश किया है।  ट्रांसमिशन लाईन के भारतीय किनारे की ओर मुजफ्फरपुर से टीएलपी नेपाल कनेक्‍शन बिन्‍दु तक 128 कि.मी. लंबी टि्वन मूस 400 केवी की डी/सी लाईन की स्‍थापना के लिए इस उद्देश्‍य हेतु गठित क्रॉस बार्डर ट्रांसमिशन लाईन के भारतीय भाग (89 कि.मी. लंबी) के निष्‍पादन के लिए एसजेवीएन एक भागीदार तथा परामर्शक है।  यह म

Banner

परामर्श कार्य

एसजेवीएन एक सुस्थापित आईएसओः9001 एवं आईएसओः14001 सत्यापित कंपनी है I यह एक बहुविधा संगठन है और इसने जलविद्युत परियोजनाओं की प्लानिंग और निष्पादनार्थ पर्याप्त अनुभव अर्जित कर लिया है I समय बीतने के साथ जैसे-जैसे एसजेवीएन द्वारा अपनी विद्युत परियोजनाओं के निष्पादन में हासिल की गई सफलताओं की खबर फैलती गई इसे उनकी टेक्नीकल विशेषज्ञता ओर गहन अनुभव के लिए भारत और विदेशों की कई कंपनियों से अनुरोध मिलना शुरू हो गए I